Loading...


झारखण्ड भारत का एक राज्य है। जिसकी स्थापना 15 नवम्बर 2000 को हुआ था| राँची इसकी राजधानी है। लगभग संपूर्ण प्रदेश छोटानागपुर के पठार पर अवस्थित है। संपूर्ण भारत में वनों के अनुपात में प्रदेश एक अग्रणी राज्य माना जाता है। बिहार के दक्षिणी हिस्से को विभाजित कर झारखंड प्रदेश का सृजन किया गया था। इस प्रदेश के अन्य बड़े शहरों में धनबाद, बोकारो एवं जमशेदपुर शामिल हैं।

झारखंड के कुड़माली भाषा के अनुसार झाड़ का तात्पर्य "जंगल-झाड़ी" से है, इसलिए इसे झाड़ जंगलों का प्रदेश झाड़खंड कहते है। "छोटानागपुर पठार" में बसा होने के कारण इसे "छोटानागपुर प्रदेश" भी बोलते हैं।




भौगोलिक स्थिति एवं जलवायु
प्रदेश का ज्यादातर हिस्सा छोटानागपुर पठार का हिस्सा है जो कोयल, दामोदर, ब्रम्हाणी, खड़कई, एवं स्वर्णरेखा नदियों का उद्गम स्थल भी है जिनके जलक्षेत्र ज्यादातर झारखण्ड में है। प्रदेश का ज्यादातर हिस्सा वन-क्षेत्र है, जहाँ हाथियों एवं बाघों की बहुतायत है।


कुछ प्रमुख बाते 

  1. राजधानी - रांची 
  2. उपराज्यधानी - दुमका 
  3. भौगोलिक - 21॰ 58'10 से 25॰ 19'15 उत्तरी अक्षांक एवं 83॰ 19'50  से 87॰57'     पूर्वी देशांतर तट 
  4. विस्तार - उत्तर से दक्षिण 380 KM एवं पूर्व से पश्चिम 463 KM 
  5. क्षेत्रफल- लगभग 79,714 किमी² 
  6. सीमाएँ - पूरब में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में छत्तीसगढ़, और उत्तर प्रदेश,  उत्तर में बिहार , दक्षिण में उड़ीशा 
  7. वनीय छेत्र - लगभग 23611 वर्ग किमी 
  8. संरक्षित वनो का प्रतिशत - 81.28%
  9. आरच्छित वनो का प्रतिशत - 18.58%
  10. कृषि योग्य भूमि - लगभग 38 लाख हेक्टेयर 
  11. सर्वोच्य शिखर - पारसनाथ (1365 मीटर)
  12. ग्रामीण छत्रफल - 77922 वर्ग किमी
  13. शहरी छेत्र - 1792 वर्ग किमी 
  14. प्रखंड - 5 (उत्तरी छोटानागपुर, दक्षिणी छोटानागपुर, संथाल परगना, पलामू, कोल्हाण(सबसे छोटा प्रखंड)) 
  15. जिला - 24 
  16. प्रखंड - 264 
  17. अनुमंडल - 45 (शुरू में 33 थे)
  18. नगर निगम - 9 (हज़ारीबाग़, रांची, धनबाद, देवघर, जमशेदपुर, चास, मेदिनीनगर, मानगो, गिरिडीह)
  19. जिला परिषद् - 24 
  20. गांव - लगभग 32620 
  21. वार्ड - लगभग 1400 
  22. ग्राम पंचायत - 4423 
  23. छावनी - 1 
  24. विश्वविद्यालय - 11 
  25. राष्ट्रीय राजमार्ग - लगभग 2662 किमी 
  26. सबसे बड़ा शहर - जमशेदपुर 
  27. औद्योगिक नगर - धनबाद , जमशेदपुर , बोकारो , हज़ारीबाग़ 
  28. नव निर्मित जिला - लातेहार , सिमडेगा , जामताड़ा , सरायकेला-खरसावां , खूंटी , रामगढ 
  29. सर्वाधिक प्रखंड वाले जिला - पलामू(20 ) , गढ़वा(19 ) , राँची(18 )
  30. सर्वाधिक जिला वाला प्रखंड - उत्तरी छोटानागपुर (7)
  31. सर्वाधिक कम जिला वाला प्रखंड - पलामू एवं कोल्हान (03)
  32. बड़ा संसदीय छेत्र - पश्चमी सिंहभूम 
  33. छोटा संसदीय छेत्र - चतरा 



जनसँख्या 

  1. अनुसूचित जनजाति - 32 
  2. आदिवासी - 08 
  3. जनसँख्या की दृस्टि से सबसे बड़े जनजाति - संथाल, उरांव, मुण्डा एवं हो 
  4. प्रतिशतता की दृस्टि सर्वाधिक जनजातीय आबादी वाला जिला - गुमला 
  5. प्रतिशतता की दृस्टि सबसे कम जनजातीय आबादी वाला जिला - कोडरमा 
  6. सर्वाधिक जनजातीय आबादी वाला जिला - राँची 
  7. सबसे कम जनजातीय आबादी वाला जिला - कोडरमा 
  8. सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा - संथाली 
  9. प्रमुख जनजातीय त्यौहार - सरहूल 
  10. सबसे मशहूर नृत्य - छऊ 
  11. HDI में देश में पोजीशन - 19 
  12. राजकीय पेड़ - साल 
  13. राजकीय पुष्प - पलाश 
  14. राजकीय पशु - हाथी 
  15. राजकीय पक्षी - कोयल 



झारखण्ड के पर्यटन स्थल

  1. लोध जलप्रपात,
  2. पलामू किला,
  3. देवघर वैधनाथ मंदिर,
  4. बासुकीनाथ मंदिर,
  5. हुंडरू जलप्रपात,
  6. दलमा अभयारण्य,
  7. बेतला राष्ट्रीय उद्यान,
  8. श्री समेद शिखरजी जैन तीर्थस्थल (पारसनाथ)
  9. पतरातू डैम, पतरातू
  10. गौतम धारा, जोन्हा
  11. छिनमस्तिके मंदिर, रजरप्पा
  12. पंचघाघ जलप्रपात,
  13. दशम जलप्रपात।
  14. हजारीबाग राष्ट्रीय अभयारण्य
  15. तोपचाँची झील
  16. मैथन डेम
  17. पेरवा घाघ, खूटीं
  18. हजारीबाग रेलवे स्टेशन
  19. पंचेत डेम
  20. भटिंडा फॉल
  21. लिलौरी कतरास गढ़
 
मिट्टी के वर्गीकरण के अनुसार, प्रदेश की ज्यादातर भूमि चट्टानों एवं पत्थरों के अपरदन से बनी है। जिन्हें इस प्रकार उप-विभाजित किया जा सकता है:-

लाल मिट्टी - जो ज्यादातर दामोदर घाटी, एवं राजमहल क्षेत्रों में पायी जाती है।
माइका युक्त मिट्टी - जो कोडरमा, झुमरी तिलैया, बड़कागाँव, एवं मंदार पर्वत के आसपास के क्षेत्रों में पायी जाती है।
बलुई मिट्टी - ज्यादातर हजारीबाग एवं धनबाद क्षेत्रों की भूमि में पायी जाती है।
काली मिट्टी - राजमहल क्षेत्र में
लैटेराइट मिट्टी - जो राँची के पश्चिमी हिस्से, पलामू, संथाल परगना के कुछ क्षेत्र एवं पश्चिमी एवं पूर्वी सिंहभूम में पायी जाती है।